Investing in Index Funds ! इंडेक्स फंड्स क्या है | इंडेक्स फंड के फायदे और नुकसान !

Index Funds: इंडेक्स फंड्स क्या है, इंडेक्स फंड्स के फायदे और नुकसान !

नमस्कार दोस्तों,एक बार पुनः स्वागत है आपका अपने ब्लॉग moneynestblog.com में,आशा है आप लोग इस ब्लॉग की जानकारियों से अवश्य लाभांवित हो रहे होगें और अपने दोस्तों के साथ भी इस ब्लॉग के पोस्ट शेयर कर रहे होंगे।

दोस्तों आज के इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको index funds के बारे में बताने का प्रयास करूंगा,तो चलिए देखते हैं क्या होते हैं ये index funds !

मित्रों, म्यूचुअल फंड्स कई प्रकार के होते हैं, सबकी अपनी अलग-अलग विशेषताएं होती  हैं, इन funds के बारे में अगर आप जानकारी रखते हैं तो  आप अपनी जरूरत से हिसाब से सही index fund स्कीम का चुनाव कर उसमें निवेश कर सकते हैं । दरअसल Index funds, Mutual funds की एक कैटेगरी होती है।

“INDEX FUND” इस नाम से ही इसका मतलब काफी हद तक समझ में आ जाता है I इस तरह के funds शेयर बाजार के किसी index या सूचकांक में शामिल कंपनियों के शेयरों में निवेश करते हैं I किसी Index में शामिल सभी कंपनियों के वेटेज अलग-अलग होते हैं। उस इंडेक्स में जिस कंपनी का जितना वेटेज होता है,उसी अनुपात में उन कंपनियों के शेयर उन index funds में खरीदे जाते हैं जिनमें आप और हम निवेश करते हैं ; इसका मतलब यह है कि ऐसे फंड्स का रिटर्न या प्रदर्शन उस इंडेक्स जैसा ही होता है, जिसको वे ट्रैक करते हैं,जैसे की nifty 50 index fund,nifty next fifty index fund आदि I इस तरह index funds  का पोर्टफोलियो उस index से मिलता-जुलता होता है जिसे वे ट्रैक कर रहे होते  हैंI

दोस्तों , Index fund पैसिव इंवेस्टमेंट स्ट्रैटेजी (रणनीति) को अपनाते हैं I कहने का मतलब यह है कि इनका सक्रिय रूप से मैनेजमेंट या प्रबंधन नहीं किया जाता है; Index funds अपने बेंचमार्क को पछाड़ने की कोशिश नहीं करते हैं I जबकि एक्टिव फंड्स में प्रोफेशनली ट्रेंड मैनेजर अपनी सूझबूझ से निर्णय लेते हुए स्टॉक की खरीद और बिक्री करते हुए बेंचमार्क से ज्यादा रिटर्न बनाने का प्रयास करते हैं I इंडेक्स फंड्स  का रिटर्न अपने इंडेक्स के प्रदर्शन से मेल खाता है , इन इंडेक्स फंड्स का रिटर्न लगभग इंडेक्स के रिटर्न्स जितना ही होता है । ये फंड्स कभी भी अपने ट्रैकिंग इंडेक्स से ज्यादा रिटर्न जनरेट नहीं कर पाते हैं।

Index fund का एक्सपेंस रेशियो (निवेश करने में होने वाला खर्च) अमूमन 0.5%या इससे कम होता है ; क्योंकि यह पैसिव इन्वेस्टमेंट की रणनीति है जबकि एक्टिव फंड्स या सक्रिय तौर से प्रबंधित किए जाने वाले फंड्स में एक्सपेंस रेशियो 1% से 2.5% तक का होता है I कहने का मतलब यह है की सक्रिय रूप से प्रबंधित किए जाने वाले म्यूचुअल फंड्स स्कीम के मुकाबले इंडेक्स फंड्स पर काफी कम खर्च आता है ;और अगर आप लंबे समय के नजरिए से निवेश कर रहे हैं तो यह आपके रिटर्न पर काफी असर डालता है,हांलकी  यह अंतर लगता तो बहुत कम है!

इंडेक्स फंडों में ट्रैकिंग एरर कम होता है I इससे इंडेक्स को इमेज या प्रतिरूप करने की एक्यूरेसी (शुद्धता) बढ़ जाती है । इस तरह रिटर्न का ज्यादा सटीक अनुमान लगाया जा सकता है I ट्रैकिंग एरर या एक्टिव रिस्क निवेश के पोर्टफोलियो में जोखिम का आकलन है I यह दिखाता है कि पोर्टफोलियो कितने करीब से इंडेक्स का पालन करता है । उदाहरण के तौर पर मान लीजिए अगर किसी इंडेक्स का रिटर्न 12% का है ,और एक इंडेक्स फंड जो उस इंडेक्स को ट्रैक करता है,का रिटर्न 11.50% जबकि एक अन्य इंडेक्स फंड का रिटर्न 11.25% है ।तो इस कंडीशन में जिस  इंडेक्स फंड का रिटर्न,ट्रैकिंग इंडेक्स के जितना करीब होगा उसका ट्रैकिंग एरर उतना कम माना जायेगा । उपर्युक्त उदाहरण में 11.50% का रिटर्न देने वाला फंड 11.25% के रिटर्न देने वाले फंड से बेहतर है, क्योंकि उस फंड ने ट्रैकिंग इंडेक्स के ज्यादा करीब का रिटर्न दिया है या यूं भी कह सकते हैं कि उनके रिटर्न के बीच का अंतर कम है ।

दोस्तों, इंडेक्स फंड उन निवेशकों के लिए बेहतरीन हैं जो शेयरों में निवेश तो करना चाहते हैं, लेकिन सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले फंड्स से जुड़े जोखिम को लेकर सहज नहीं हैं l

अब बात करते हैं कि इंडेक्स फंड्स में किसे निवेश करना चाहिए?

Index funds उन निवेशकों के लिए सर्वश्रेष्ठ होते है जो लॉन्ग टर्म या लंबे समय के लिए निवेश करना पसंद करते हैं। यदि आपके पास इनडेक्स के प्रदर्शन से जुड़ा अनुभव है और यदि कोई अनुभव नहीं भी है तो जब आप जानकारी इकट्ठा करेंगे तो आप को यह निश्चित तौर पर पता लग जायेगा कि शॉर्ट टर्म की अस्थिरता और उतार चढ़ाव के बावजूद उन्होंने यानी index ने लंबी अवधि (लॉन्ग टर्म) में अच्छा रिटर्न दिया है और अपवर्ड प्रदर्शन किया है।

चलिए अब देखते हैं कि इंडेक्स फंड्स में क्यों निवेश करना चाहिए?

पहला कारण है कम लागत: यह जरूरी और महत्वपूर्ण है,चूंकि इंडेक्स फंड एक इन-एक्टिव फंड है, इसलिए एक्टिव रूप से मैनेज फंड्स की तुलना में इसका कुल एक्सपेंस रेश्यो (TER=Total Expense Ratio) बहुत कम है। हालांकि, एक्टिव रूप से मैनेज फंड्स आपको Total Expense Ratio के रूप में 1%- से 2% के बीच कुछ भी चार्ज कर सकते है, एक इंडेक्स फंड आमतौर पर आपसे 0.10% से 0.50% के बीच चार्ज लेगा। लॉन्ग-टर्म में, इस कारण आपका लाभ 15% बढ़ सकता है, कंपाउंडिंग के कारण;तो है न यह मजेदार बात।

दूसरा कारण है डाइवर्सिफिकेशन: डाइवर्सिफिकेशन  यानी की विविधता । एक इंडेक्स फंड आमतौर पर टॉप कंपनियों को शामिल करके एक index का निर्माण करता है। इसका मतलब है कि प्रत्येक सेक्टर की टॉप प्रफॉर्मिंग या प्रदर्शन करने वाली कंपनियां बेंचमार्क इंडेक्स का हिस्सा होंगे। Auto डाइवर्सिफिकेशन किसी निवेशक को किसी विशेष स्टॉक या किसी सेक्टर में निवेशित रहने से जोखिम को कम करता है।

तीसरा कारण है,फंड मैनेजर की गलती की कोई संभावना नहीं :यह बिंदु भी अत्यंत आवश्यक है,चूंकि इंडेक्स फंड के मामले में पूंजी का निवेश फंड मैनेजर के बुद्धि-विवेक पर नहीं निर्भर होता है, इसलिए खराब मैनेजमेंट के कारण नुकसान होने की कोई गुंजाइश ही नहीं होती है।

अब बात करते हैं कि इंडेक्स फंड में निवेश के नुकसान क्या हो सकते हैं?

पहला ,मार्केट अंडरपरफॉर्मेंस: इस प्रकार के फंड्स में खरीददारी करने वाले निवेशक के पास एक अच्छा एक्टिवली मैनेज फंड चुनकर बाज़ार में अच्छे प्रदर्शन यानी की अच्छा रिटर्न या इंडेक्स को beat कर देने वाला रिटर्न प्राप्त करने का मौका होता है। भारत जैसे विकासशील देशों के मामले में, अनुभवी लोगों की राय है कि अच्छी तरह से एक्टिव मैनेज्ड फंड ,इंडेक्स फंड जैसे इन-एक्टिव फंड से अच्छे रिटर्न या लाभ दे सकते हैं।

दूसरा ,केवल मेच्योर कंपनियों में निवेश: इंडेक्स फंड में केवल मैच्योर कंपनियां होती हैं जिन्होंने पिछले कुछ वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया होता है। इसलिए इस तरह के फंड्स में निवेशक उभरती हुई छोटी और मिडकैप कंपनियों के ज़्यादा रिटर्न या लाभ क्षमता का फायदा नहीं उठा सकते हैं।

तीसरा ,महंगी वैल्यूएशंस: Index funds द्वारा निवेशक उन शेयरों को indirectly खरीद रहे हैं जो पहले से ही मूल्यांकन के नज़रिए से काफी महंगे हैं।

तो दोस्तों यह थे index funds से जुड़े कुछ अतिमहत्वपूर्ण बिंदु जो मैंने इस पोस्ट के माध्यम से आप सबके साथ शेयर किया है । मुझे पूरी उम्मीद है की यह जानकारी आपके लिए लाभप्रद होगी और इसका फायदा आप अपने निवेश करने के निर्णय लेने में भी कर सकेंगे !

दोस्तों, इस पोस्ट में इतना ही ,कृपया इस पोस्ट को अपने  मित्रों और परिचितों के साथ कई सार्वजनिक प्लेटफार्मों पर साझा करें ताकि कई और लोग  लाभान्वित हो सकें और index funds के बारे में अपनी जानकारी में इजाफा कर सकें । इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए और अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद !!!

Rate this post

Leave a Comment