ETF: के बारे में जाने

ETF: निवेश के कई विकल्पों में से एक हैं ETF, यानी Exchange Traded Funds (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड)। इन दिनों ETF में निवेशकों की दिलचस्पी काफी बढ़ी है।  ETF क्या हैं और क्यों बढ़ रही है इनकी लोकप्रियता आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम जानने का प्रयास करेंगे।

ETF या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड शेयरों के एक सेट में निवेश करते हैं l ये अमूमन एक खास इंडेक्स को ट्रैक करते हैं। ईटीएफ म्यूचुअल फंड्स जैसे ही होते हैं लेकिन, दोनों में एक बड़ा अंतर यह है कि ETF को केवल स्टॉक एक्सचेंज से खरीदा या बेचा जा सकता है ,ठीक उसी तरह से जिस तरह से आप शेयरों को खरीदते और बेंचते हैं । शेयरों की ही तरह आप स्टॉक एक्सचेंजों के कारोबारी घंटों के दौरान यानी सुबह 9:15 से 3:30 तक ईटीएफ को भी खरीद और बेंच सकते हैंl

ETF में इंडेक्स फण्ड ही होते हैं जो कि स्टॉक एक्सचेंज में शेयरों की तरह ही खरीदे और बेचे जाते हैं। विश्व भर में ETF रिटेल निवेशकों और संस्थागत निवेशकों में बहुत ही लोकप्रिय निवेश का साधन है। हम यह कह सकते हैं कि यह एक सस्ता निवेश का साधन है क्योंकि इस फण्ड में निवेश करने के चार्जेज या एक्सपेंस रेश्यो आम तौर पर दूसरे फंड्स के मुकाबले काफी कम होते हैं।

ETF के पोर्टफोलियो में तमाम तरह की प्रतिभूतियां जैसे:स्टॉक्स,गोल्ड आदि होते हैं। इनका रिटर्न भी इंडेक्स जैसा ही होता है। ये शेयर बाजार पर लिस्ट होते हैं। वहां इन्हें खरीदा-बेचा जा सकता है।

ETF का रिटर्न और रिस्क बीएसई सेंसेक्स जैसे इंडेक्स या सोने जैसे एसेट में उतार-चढ़ाव पर निर्भर करता है।

ETF की पेशकश पहले NFO के रूप में होती है। फिर ये शेयर बाजार में लिस्ट होते हैं। NFO यानी New Fund Offer ,किसी AMC(एसेट मैनेजमेंट कंपनी) की नई स्कीम होती है। इसके जरिए कोई म्यूचुअल फंड ,कंपनी के शेयरों, सरकारी बॉन्ड आदि जैसे इंस्ट्रूमेंट में निवेश करने के लिए निवेशकों से पैसे जुटाते हैं। जब बाजार चढ़ रहा होता है तो म्यूचुअल फंड कंपनियां के NFO लॉन्च करने की रफ्तार बढ़ जाती है। वे शेयर बाजार से ज्यादा रिटर्न कमाने की निवेशकों की चाहत को भुनाती हैं । ट्रेडिंग पोर्टल या स्टॉक ब्रोकर के जरिए शेयर बाजार पर ETF की खरीद-फरोख्त होती है ।

ETF के मूल्य वास्तविक समय में पता चल जाते हैं। यानी लेनदेन के समय ही इनके दामों का भी पता लग जाता है। जबकि म्यूचुअल फंड्ज के NAV के साथ यह नहीं होता है। NAV की गणना मार्केट बंद होने के बाद  दिन के अंत में होती है l

ETF पोर्टफोलियो को डायवर्सिफाई करने का किफायती और कारगर विकल्प हैं। कारण है कि यह तमाम इंडेक्स, कई सेक्टर और एसेट क्लास को कवर करते हैं।

ETF में निवेश के फायदे

  • शेयरों की तरह ETF को खरीदते और बेंचते समय इसकी कीमतों पर नजर रखी जा सकती है।
  • ETF प्रतिदिन निवेश की जानकारी देते हैं, जिससे निवेश ज्यादा पारदर्शी होते है।
  • ETF को आसानी से मार्केट hours में खरीदा और बेचा जा सकता है।
  • ETF में निवेश करके अलग-अलग सेक्टर में निवेश किया जा सकता है।
  • हर ETF के लिए फंड मैनेजर होते हैं, जिससे निवेशक को शेयरों की खरीदारी या बिकवाली नहीं करनी पड़ती है।
  • ETF के फ़ंड मैनेजर को बस इतना ही दिमाग लगाना होता है कि उसका पोर्टफोलियो बिल्कुल हू-ब-हू INDEX को रेप्लीकेट करे। उदाहरण के लिए निप्पॉन इंडिया का निफ्टी बीज(nifty bees) निफ्टी इंडेक्स पर आधारित एक etf है ,इसमें फ़ंड मैनेजर निफ्टी के सभी 50 शेयरों को उसी अनुपात में खरीदेगा जिस अनुपात में वो निफ्टी के लिए निर्धारित हैं l इस प्रक्रिया से होगा यह की जब nifty index में तेजी होगी तो निफ्टी बीज का मार्केट प्राइस भी शेयर की तरह बढ़ जाएगा और जब निफ्टी इंडेक्स गिरेगा तो निफ्टी बीज के etf का मूल्य भी गिरेगा

             

ETF में निवेश के नुकसान

  • जब आप etf को किसी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म से खरीदते या बेंचते है तो आपको अपने स्टॉक ब्रोकर को ब्रोकरेज के साथ अन्य टैक्सेस भी देने पड़ते हैं जो आपके etf में निवेश की लागत को बढ़ा देता है,दोस्तों यह चार्ज expense ratio के अलावा हमसे लिया जाता है l
  • दूसरा बिंदु जो की काफी महत्वपूर्ण है जो मैंने खुद अनुभव किया है वह यह है कि,जब आप eft में निवेश करते है तो जब भी आपके etf का मूल्य आपके औसत buy प्राइस से ज्यादा हो जाता है तो आप ऊंची कीमत पर और खरीदने की हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं ,यहाँ पर हमारे इमोसन्स हम पर हावी हो जाते हैं,यही कंडिशन गिरते शेयर बाज़ार में भी होती है,तब हम भय के कारण कोई निर्णय नहीं ले पाते हैं।
  • ETF में निवेश करने पर हम रोज़ स्टॉक्स की तरह इसके प्राइस को चेक करते रहते हैं और बहुत कम प्रॉफ़िट ही अक्सर बुक कर लेते है,जिससे हमारे लॉन्ग टर्म इनवेस्टमेंट का गोल प्रभावित होता है।

                       

दोस्तों, यह थे ETF से जुड़े कुछ अतिमहत्वपूर्ण बिंदु जो मैंने इस पोस्ट के माध्यम से आप सबके साथ शेयर किया है । मुझे पूरी उम्मीद है की यह जानकारी आपके लिए लाभप्रद होगी और इसका फायदा आप अपने निवेश करने के निर्णय लेने में भी कर सकेंगे !

इस आर्टिकल में इतना ही कृपया इस पोस्ट को अपने  मित्रों और परिचितों के साथ कई सार्वजनिक प्लेटफार्मों पर साझा करें ताकि अन्य लोग भी लाभान्वित हो सकें और ETF के बारे में अपनी जानकारी में इजाफा कर सकें ।

इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के लिए और अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद !!!

5/5 - (1 vote)

Leave a Comment